शेखपुरा: सक्षमता परीक्षा के विरोध में बिहार शिक्षक एकता मंच ने निकाला मशाल जुलूस

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं


नियोजित शिक्षकों को ली जाने वाली सक्षमता परीक्षा पर शेखपुरा के शिक्षक शनिवार को सड़क पर उतरे और कलेक्ट्रेट के सामने प्रदर्शन किया। गौरतलब हो कि नियोजित शिक्षक शिक्षा विभाग और नीतीश सरकार से दो-दो हाथ करने को तैयार हैं। सड़क से लेकर सदन तक विरोध करने की तैयारी कर रहे हैं। इसी क्रम में नियोजित शिक्षक 13 फरवरी को बिहार के सरकारी स्कूलों की पढ़ाई ठप कर राजधानी पटना में विरोध प्रदर्शन करेंगे। इसी आलोक में शनिवार को बिहार शिक्षक एकता मंच शेखपुरा के बैनर तले राजव्यापी अहवान पर विशिष्ट शिक्षक/ अनैतिक नियमावली/ सक्षमता परीक्षा के विरोध में शिक्षक एकता मंच के जिला संयोजक राजेंद्र यादव के नेतृत्व में एक विशाल मशाल जुलूस समाहरणालय से निकलकर चांदनी चौक तक बिहार सरकार एवं अपर मुख्य सचिव के.के.पाठक के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए पहुंचा, संयोजक राजेंद्र यादव एवं रामाशीष यादव ने विशिष्ट शिक्षक नियमावली को अनैतिक और अमर्जादित और अलोकतांत्रिक शिक्षकों को प्रताड़ित करने वाला बताया। वहीं मंच के महासचिव आमोद प्रियदर्शी ने सरकार द्वारा आयोजित सक्षमता परीक्षा को शिक्षकों का प्रताड़िता परीक्षा बताया। प्रियदर्शी ने सरकार से मांग की अविलंब नियमावली में संशोधन कर ऐच्छिक स्थानांतरण, ऑफलाइन परीक्षा एवं जो शिक्षक परीक्षा में शामिल नहीं होते हैं उनको स्थानीय निकाय में रहने दिया जाए। मशाल जुलूस में मुख्य रूप से शिक्षक एकता मंच के जिला उपाध्यक्ष ललन कुमार, रमेश कुमार, वीणा कुमारी, मुख्य प्रवक्ता अमर्त्य सेन, मीरा कुमारी, वंदना कुमारी, शिक्षक नेता भवेश भारती, इंद्रलोक कुमार, प्रखंड अध्यक्ष अजीत कुमार, मेहराब अंसारी, देवेंद्र कुमार, मुरारी राम, सूर्य नारायण चौधरी, सचिव राजेश कुमार उपाध्यक्ष वीरेंद्र कुमार, कोषाध्यक्ष निरंजन कुमार, घाटकुसुम्भा प्रखंड अध्यक्ष उदय शंकर समेत सैकड़ो शिक्षकों ने भाग लिया।

watch video…https://youtu.be/DeRDEHFlVyQ?si=SNy5fNNefwzJ4Rw7

Leave a Comment