शेखपुरा: प्रेम प्रसंग में ईंट से कूंचकर की गयी थी साहिल की हत्या, प्रेमिका के पिता-भाई सहित 5 गिरफ्तार

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं


सदर थाना अंतर्गत हथियावां ओपी क्षेत्र अंतर्गत बिहटा गांव में 2 दिन पूर्व साहिल कुमार के मिले शव की गुत्थी पुलिस ने सुलझा लिया है। शव मिलने के 48 घंटे बाद ही पुलिस ने इस हत्याकांड का खुलासा करते हुए बताया कि प्रेम प्रसंग में इस हत्याकांड को अंजाम दिया गया था। इस हत्याकांड में शामिल प्रेमिका के पिता, भाई और चाचा सहित पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। घटनास्थल से पुलिस ने खून से सने ईंट को बरामद कर लिया है। गौरतलब हो कि मृतक साहिल कुमार 17 फरवरी की शाम किसी के फोन आने पर घर से निकला और फिर वापस घर नहीं लौटा। जिसका शव 19 जनवरी की शाम एक अर्धनिर्मित मकान से मिला। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और मामले की जांच शुरू कर की। घटना के बाद एसपी बलिराम कुमार चौधरी ने एसडीपीओ अरविन्द कुमार सिन्हा के नेतृत्व में डीआईयू में प्रतिनियुक्ति पुलिस पदाधिकारी व कर्मियों के साथ टीम का गठन किया। इसके बाद पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए घटना में शामिल बिहटा निवासी बालेश्वर चौधरी के 23 वर्षीय पुत्र राहुल कुमार, सतीश कुमार चौधरी के 23 वर्षीय पुत्र पंकज कुमार, स्व. मुनेश्वर चौधरी के 52 वर्षीय पुत्र दयानंद चौधरी, स्व. मुनेश्वर चौधरी के 58 वर्षीय पुत्र सुरेन्द्र चौधरी और दयानन्द चौधरी के 19 वर्षीय पुत्र सुमित कुमार को गिरफ्तार किया है। एसपी बलिराम कुमार चौधरी ने बताया कि दयानन्द चौधरी की बेटी से मृतक साहिल कुमार का प्रेम प्रसंग चल रहा था। जिसको लेकर दयानंद चौधरी के द्वारा साहिल कुमार को बहुतों बार समझाया गया कि तुम ये सब काम छोड़ दो, नहीं तो जान मार देंगे। लेकिन उसकी बेटी एवं मृतक साहिल कुमार के बीच प्रेम प्रसंग चलता रहा। दूसरा कारण जमीनी विवाद भी है, राहुल के पिता ने दयानन्द के एक भाई सूरज चौधरी की जमीन खरीद ली गई है। इस जमीन को अभी भी दयानंद चौधरी के द्वारा जोता जा रहा है, जो दयानंद चौधरी को नागवार गुजरा। इसी को लेकर दयानंद चौधरी ने अन्य लोगों के साथ मिलकर इस हत्याकांड को अंजाम दिया।

फोन नंबर से मिला हत्यारों का सुराग

एसपी बलिराम कुमार चौधरी ने बताया कि 18 फ़रवरी को शेखपुरा पुलिस के द्वारा लापता साहिल कुमार के मोबाईल पर हुई वार्तालापों के आधार पर राहुल कुमार को पूछताछ हेतु गिरफ्तार किया। पूछताछ के दौरान राहुल कुमार के द्वारा बताया गया कि मैं अपने दोस्त पंकज कुमार के कहने पर साहिल कुमार को कॉल किया था। तत्पश्चात राहुल कुमार के बताये अनुसार पूछताछ के लिए पंकज कुमार गिरफ्तार किया गया। पूछताछ के क्रम में 19 फ़रवरी को साहिल का लाश बिहटा गांव के चिमनी भट्टा के पास संजय चौधरी के अर्द्ध निर्मित मकान में मिला। ज़ब राहुल कुमार एवं पंकज कुमार से कड़ाई से पूछताछ की गई तो दोनों ने बताया कि हम दोनों के अलावा तीन और व्यक्ति इस कांड में संलिप्त है। जिसमें दयानंद चौधरी और उसका भाई सुरेन्द्र चौधरी और पुत्र सुमित कुमार शामिल है। राहुल के द्वारा बताया गया कि पंकज कुमार बोला कि तुम साहिल कुमार को फोन करके बुलवा दो, तुम्हारे ही कहने पर वह आयेगा। तब राहुल कुमार ने फोन कर साहिल कुमार को बुलवाया।

दोस्त ने धोखे से बुलाकर दिया था घटना को अंजाम

बिहटा निवासी राहुल और साहिल दोस्त हैं और इसी बात का फायदा उठाकर आरोपी पंकज कुमार के द्वारा राहुल कुमार से फोन कराकर साहिल कुमार को बुलाया गया। घटना से पहले मृतक साहिल कुमार को जरा सा भी आभास नहीं हुआ कि उसका दोस्त राहुल और पंकज उसकी मौत का षड्यंत्र रच रहे हैं। अपने दोस्त राहुल के फोन करने पर ज़ब साहिल वहाँ पहुंचा तो पंकज कुमार और राहुल कुमार, साहिल को साथ में लेकर चिमनी के पास अर्द्धनिर्मित मकान में पहुँचे। जैसे ही साहिल कुमार ने अर्द्धनिर्मित मकान के अन्दर प्रवेश किया वैसे ही पहले से घात लगाकर बैठे दयानंद चौधरी ने अपने हाथ में लिये ईट से साहिल कुमार के सिर पर मार दिया, जिसके बाद साहिल कुमार बुरी तरह जख्मी होकर गिर गया और गिरने के बाद सुरेन्द्र चौधरी एवं सुमित कुमार दोनों ने मिलकर ईट से उसके माथा पर वार करना शुरू कर दिया और उसकी मौत होने तक मारते रहे। इस दौरान राहुल कुमार एवं पंकज कुमार दरवाजा पर खड़ा होकर आने जाने वाले लोगों की निगरानी करता रहा। घटना को अंजाम देकर सभी लोगों ने बगल के तालाब में हाथ धोया और दयानन्द चौधरी ने मृतक साहिल कुमार के मोबाईल को ईट से तोड़कर तालाब में फेंक दिया और आराम से चलते बने। लेकिन पुलिस ने तत्काल कार्रवाई करते हुए सभी अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया।

Read More…https://youtu.be/qsjQCFzdOhM?si=MeTd4CnErDyvecnd

Leave a Comment