शेखपुरा: कुलच्छनी माँ ने नवजात को नाला में फेंका

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

सुबह सैर करने निकले लोगों को बरबीघा रेफरल अस्पताल के पीछे नाली के बगल में एक नवजात बच्ची के रोने की आवाज सुनी तो नाली के समीप पहुंचे। जिसे देखकर हर किसी का दिल दहल गया। कपड़ों में लिपटी बच्ची के शरीर पर चीटियां लटकी हुई थी और वह दर्द से कराह रही थी। कयास लगाया जा रहा है कि बच्ची को जन्म देने के बाद किसी ने चीथड़े में लपेटकर नाले के पीछे फेंक दिया था। लेकिन कुदरत का करिश्मा ऐसा की बच्ची सुबह तक जिन्दा रही। वहीं घटना की खबर सुनकर वहां लोगों की भीड़ जुटने लगी। तभी एक स्थानीय महिला ने ममता दिखाते हुए बच्ची को सीने से लगाया और बच्ची को लेकर रेफरल अस्पताल पहुंची। जहां बच्ची की गंभीर स्थिति को देखते हुए तत्काल ड्यूटी पर तैनात चिकित्सक ने नवजात बच्ची को सदर अस्पताल भेज दिया। जहां नवजात को सदर अस्पताल के शिशु केयर सेंटर के एसएनसीयू वार्ड में भर्ती कर इलाज किया जा रहा है। नवजात बच्ची की स्थिति गंभीर बनी हुई है। वहीं घटना की खबर सुनकर बाल संरक्षण इकाई के सामाजिक कार्यकर्त्ता श्रीनिवास सदर अस्पताल पहुंचे और चिकित्सकों से बच्ची की स्थिति का जायजा लिया और बेहतर इलाज का अनुरोध किया। इस संबंध में बरबीघा रेफरल अस्पताल प्रभारी डॉ फैजल अरसद ने बताया कि नवजात बच्ची प्री-मच्योर थी। जिसकी गंभीर स्थिति को देखते हुए सदर अस्पताल के एसएनसीयू में भर्ती कराया गया है। भला हो उस महिला का जिन्होंने नवजात बच्ची को उठाकर तत्काल अस्पताल पहुंचाया। इस संबंध में बाल संरक्षण पदाधिकारी सुरेंद्र कुमार ने बताया कि बरबीघा में नवजात बच्ची पाए जाने की सूचना मिली थी। सूचना मिलते ही हमारे सामाजिक कार्यकर्ता सदर अस्पताल पहुंचे। बच्ची प्री-मेच्योर बताई जा रही है। साथ ही उसकी स्थिति काफी गंभीर है।

ख़बरें और भी है—http://नवदम्पति को किट वितरण कर दिया मिशन परिवार विकास का संदेश https://mahuaanewsbihar.com/kit-distributed-to-shekhpura-new-couple-message-of-mission-parivar-vikas/

इस तिथि को होगी डीएलएड फेस-टू-फेस परीक्षा

इस तिथि को होगी डीएलएड फेस-टू-फेस परीक्षा

Leave a Comment