शेखपुरा: 16 जून तक उच्च रक्तचाप हेतु अस्पतालों में चिकित्सा परामर्श शिविर का होगा आयोजन

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

उच्च रक्तचाप को साइलेंट किलर माना जाता है। इसकी पहचान कर समय से निदान आवश्यक है। शारीरिक गतिविधियों में इजाफा कर तथा स्वस्थ खानपान की मदद से उच्च रक्तचाप की स्थिति से बचा जा सकता है। प्रत्येक वर्ष 17 मई को विश्व उच्च रक्तचाप दिवस मनाया जाता है।  इस वर्ष इस दिवस की थीम “अपने रक्तचाप को सटीकता से मापें, इसे नियंत्रित करें, लंबे समय तक जीवित रहेंगे। इस बाबत गैर संचारी रोग पदाधिकारी डॉ.नौशाद आलम ने बताया कि दुनिया में उच्च रक्तचाप यानि हाई बीपी मौत का एक प्रमुख कारण है। हाई बीपी की पहचान और प्रबंधन आवश्यक है। उन्होंने बताया कि हाई बीपी में रक्तचाप सामान्य से अधिक हो जाता है और इसका बड़ा कारण तनाव, खराब जीवनशैली, स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाने वाले आहार और शारीरिक गतिविधि में कमी है। हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित ज्यादातर लोगों को सिरदर्द, धुंधली दृष्टि, सीने में दर्द होता है। हाई बीपी को यदि नियंत्रित नहीं किया जाता है तो यह दिल की बीमारी और स्ट्रोक की वजह बन सकता है। उच्च रक्तचाप दिवस को लेकर जिला के सभी सरकारी अस्पतालों में 17 मई से 16 जून तक नि:शुल्क जांच सह चिकित्सा परामर्श शिविर का आयोजन किया जायेगा। इस दौरान 30 एवं इससे अधिक आयु वाले व्यक्तियों का उच्च रक्तचाप, मधुमेह तथा कैंसर की स्क्रीनिंग की जाएगी। उच्च रक्तचाप से बचाव के लिए अपना वजन नियंत्रित रखें।  शारीरिक गतिविधियों को व्यायाम तथा योगाभ्यास की मदद से बढ़ाएं। 

Leave a Comment