ईयर बुक शेखपुरा- 2023

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

शेखपुरा यादें-वर्ष 2023: साल भर राजनीतिक व सामाजिक क्षेत्र में रही हलचल
कुछ घटनाओं ने चौंकाया तो किसी ने लोगों के दिल में जगह बनाया


शेखपुरा जिले में साल 2023 काफी चर्चित रहा। साल की शुरुआत शेखपुरा नगर परिषद के चुनाव में अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित सीट पर जीत हासिल करते ही मुख्य पार्षद बनने वाली रश्मि कुमारी अपनी जाति को लेकर मुश्किल में घिर गयी। यह घटना काफी दिनों तक सुर्खियों में रहा। जबकि समाधान यात्रा पर शेखपुरा पहुंचे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने महसार गांव का दौरा किया। वहीं, पहली बार गिरिहिंडा महोत्सव का आयोजन कर गिरिहिंडा पहाड़ के महत्व व पौराणिक घटनाओं को पटल पर लाने की सफलतापूर्वक कोशिश की गयी। जबकि 11 महीने के छोटे कार्यकाल में लोगों के दिलों में जगह बनाने वाले डीएम सावन कुमार के तबादला ने हर किसी को चौका दिया। वही घाटकुसुम्भा प्रखंड में बाउघाट थाना का उद्घाटन कर टाल के लोगों को सौगात मिली। जहां थाना खुलने महज डेढ़ महीने के बाद ही आलापुर में मिनी गन फैक्ट्री का भंडाफोड़ होने की घटना से हर कोई हैरान रह गया। इसी साल जिले को ट्रैफिक थाना की सौगात मिली। जबकि साल के अंत में बरबीघा में सोना लूट कांड ने सबको हिला डाला, लेकिन लूट कांड में शामिल अपराधियों को गिरफ्तार करने की खबर ने लोगों को सुकून दिया। वर्ष 2023 में राजनितिक, सामाजिक और प्रशासनिक महकमे में काफी हलचल रही, जो अख़बारों की सुर्खियों में छायी रही।

 

नई पहल: पहली बार मनाया गया “गिरिहिंडा महोत्सव”, भविष्य का बना यादगार


– 13 मार्च 2022 को शेखपुरा जिला के पौराणिक पहाड़ गिरिहिंडा का “गिरिहिंडा महोत्सव” क़ा आयोजन किया गया, जो भविष्य के लिए यादगार दिन बन गया। यह कार्यक्रम तत्कालीन जिलाधिकारी सावन कुमार की देखरेख में जिला प्रशासन ने धूमधाम से मनाया। जिसमें विधायक विजय सम्राट सहित अन्य राजनीतिक दल, जनप्रतिनिधि के साथ-साथ हजारों लोग इस पल के साक्षी बने। जिसमें स्थानीय एवं बाहरी कलाकार के द्वारा एक से बढ़कर कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया। गिरिहिंडा पहाड़ को पर्यटन केन्द्र के रूप में पहचान दिलाने एवं ऐतिहासिक धरोहर के बारे में जानकारी देने के उद्देश्य से इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। गौरतलब हो कि महाभारत काल में हिण्डा नामक राक्षस जिनकी पुत्री हिडिम्बा थीं और पांडव अपने निर्वासन काल में भटक कर इस पहाड़ पर पहुंचे और महाबली भीम द्वारा हिडिम्बा से गन्धर्व विवाह रचाया गया, इन्हीं से घटोत्कच नामक पुत्र की प्राप्ति हुई थीं जिनकी वीरता की गाथा महाभारत में प्रसिद्ध है। महाबली भीम द्वारा ही यहां शिवलिंग की स्थापना की गई थीं। इसी हिडिम्बा नामक स्त्री की स्मृति में गिरिहिंडा मोहल्ला का नामकरण हुआ।

लापरवाही: अंधेरे में महसार पहुंच सीएम ने देखा था विकास कार्य

– समाधान यात्रा पर निकले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 7 फ़रवरी को सदर प्रखंड के महसार गांव पहुंचे। जहां उन्होंने कई योजनाओं का जायजा लिया। सीएम निर्धारित समय से विलंब पहुंचे थे, अंधेरा हो जाने के कारण मुख्यमंत्री आम जनता से रूबरू नहीं हो पाए और कई उद्घाटन कार्यक्रम धरे के धरे रह गए। दरअसल निर्धारित समय से अधिक विलंब होने के कारण कार्यक्रम में सीएम के पहुंचने के बाद किसी प्रकार खानापूर्ति कर दिया गया। वहीं जिला प्रशासन के द्वारा भी देर शाम होने के कारण लाइट की व्यवस्था नहीं की गई, जिसके कारण अंधेरे में ही सभी कार्य किए गए। गौरतलब हो कि निर्माण किए गए तालाब में भी बत्तख को फ्लैशलाइट और टॉर्च के सहारे छोड़ा गया। इसके साथ ही मछली पालन को लेकर बनाए गए तालाब में मछली के जीरे को भी टॉर्च लाइट के सहारे ही छोड़ा गया। वही दोपहर से इंतजार कर रहे पत्रकार अपनी प्रश्नों को लेकर इंतजार ही करते रह गए। लेकिन सीएम नीतीश कुमार उनके रूबरू भी नहीं हो पाए। कार्यक्रम खत्म होते ही नीतीश कुमार सीधे अपने गाड़ी में बैठकर अपने गंतव्य स्थान की ओर रवाना हो गए। मौक़े पर सीएम से मिलने व देखने के लिए महसार सहित दूर दराज गांवों से आए लोग इंतजार करते रहे, लेकिन वे नहीं मिल पाए। लोगों ने कहा कि मुख्यमंत्री नेताओं से घिरे हुए थे। ऊपर से प्रशासन के द्वारा बांस-बल्ले से गली को घेर दिया गया था। जिस कारण हमलोग वहां तक नहीं पहुंच पाये। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जीविका दीदी द्वारा लगाए गए स्टाल पर भी ज्यादा वक़्त नहीं दें पाए और चलते फिरते बात की और चेक प्रदान कर चले गए।

सुर्खिया: फ़र्ज़ी जाति प्रमाणपत्र पर चेयरमैन बनी रश्मि


– शेखपुरा नगर परिषद के मुख्य पार्षद पद पर रश्मि कुमारी की जीत गयी। लेकिन फर्जी प्रमाण पत्र के सहारे मुख्य पार्षद बनी रश्मि कुमारी की बर्खास्तगी तो कभी गिरफ्तारी को लेकर खबर पूरे साल सुर्खियों में रही। दरअसल, विगत शेखपुरा नगर परिषद चुनाव में अनुसूचित जाति के लिए सुरक्षित सीट पर रश्मि कुमार ने मुख्य पार्षद का चुनाव जीत लिया। 14 जनवरी को शपथ ग्रहण के एक दिन पहले पटना सिटी अनुमंडल पदाधिकारी ने नवनिर्वाचित मुख्य पार्षद रश्मि कुमारी का जाति प्रमाणपत्र फर्जी निकलने पर रद्द कर दिया। जिससे शेखपुरा जिला प्रशासन के समक्ष अजीब परिस्थिति उत्पन्न हो गयी। जिला अधिकारी के द्वारा चुनाव आयोग से इस पर मार्गदर्शन मांगा गया है। क्योंकि अगले दिन ही शुक्रवार को शपथ ग्रहण होना था। ऐसे में फर्जी जाति प्रमाणपत्र पर निर्वाचित प्रत्याशी का शपथ ग्रहण कराने अथवा नहीं कराने को लेकर असमंजस की स्थिति बन गयी। आखिर में रश्मि कुमारी ने मुख्य पार्षद के पद व गोपनीयता की शपथ दिला दी गयी। गौरतलब हो कि पराजित प्रत्याशी हसनगंज निवासी शुक्ला देवी के द्वारा फर्जी प्रमाणपत्र के मामले में शिकायत की गई थी, जिसकी जांच के लिए पटना के जिलाधिकारी को पत्र लिखा गया था। जांच रिपोर्ट में जाति प्रमाण पत्र को फर्जी बताते हुए उसे पोर्टल से निरस्त कर देने की जानकारी दी गई। जिसके बाद पटना डीएम के निर्देश पर रश्मि कुमारी के विरुद्ध दनियावां थाना में कांड संख्या-8/2023 दर्ज है। दर्ज प्राथमिकी को लेकर पटना पुलिस ने 16 जून को मुख्य पार्षद रश्मि कुमारी की गिरफ्तारी को लेकर उनके आवास से लेकर कार्यालय तक दबिश दी किन्तु वो गिरफ्तारी के डर से फरार हो गई थी। जिससे पटना पुलिस को बैरंग वापस लौटना पड़ा। गौरतलब हो कि रश्मि कुमारी ने मुसहर जाति का प्रमाण पत्र देकर चुनाव लड़ा और चुनाव जीत लिया। बाद में मुख्य पार्षद प्रत्याशी शुक्ला देवी की शिकायत पर जब रश्मि कुमारी की जाति प्रमाण पत्र की जांच की गयी तो रश्मि कुमारी का जाति प्रमाण पत्र फर्जी पाया गया और जाति प्रमाण पत्र को रद्द कर दिया गया। रश्मि कुमारी द्वारा गलत दस्तावेजों के आधार पर जाति प्रमाणपत्र बनाने को लेकर दनियावां थाना में एक प्राथमिकी दर्ज कराई गयी थी। वही अभी मुख्य पार्षद रश्मि कुमारी का मामला निर्वाचन आयोग में लंबित है।

बड़ी करवाई: बाउघाट पुलिस ने मिनी गन फैक्ट्री का किया था भंडाफोड़

– बाउघाट थाना क्षेत्र में पुलिस ने 13 जुलाई को आलापुर अवैध मिनी गन फैक्ट्री का उद्भेदन किया था। जहाँ पुलिस ने भारी मात्रा में अवैध देसी अर्द्ध निर्मित हथियार और कई उपकरणों के साथ इस धंधे में लिप्त छह लोगों को भी गिरफ्तार किया था। मौके से 8 अर्धनिर्मित देशी पिस्टल, हैंड ड्रिल मशीन तथा उसका प्लेट, 11 पीस रेती, हथोड़ा, दो पीस पीतल का रॉड, 9 पीस हेक्सा ब्लेड, 3 पीस साइकिल का फ्रॉक, पेचकस, पिलास, 7 मोबाइल, 1 पासपोर्ट और मिनी गन फैक्ट्री के संचालन से संबंधित अन्य औजार तथा सामग्री सहित कई उपकरण जब्त की गई है। साथ ही आलापुर निवासी मो.नेहाल के पुत्र मोहम्मद कैसर अपने साथी जमुई जिला के अडसार निवासी एजाज इमाम के पुत्र अब्दुल्ला इमाम को गिरफ्तार गया।

स्थापना: ट्रैफिक कंट्रोल को लेकर ट्रैफिक थाना का शुभारंभ


– शहरवासियों को अब जाम से निजात दिलाने को लेकर 1 नवंबर को टाउन थाना परिसर मे ट्रैफिक थाना का स्थापना हुआ था। जबकि पुलिस इंस्पेक्टर प्रजेश दूबे को यातायात थाना का थानाध्यक्ष बनाया गया था। यातायात थाना खुलने के बाद लगातार वाहन जांच कर लोगों का लाइसेंस, इन्सुरेंस, पोलुशन, सीट बेल्ट आदि की जांच की जा रही है। साथ ही यातायात नियम का उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध जुर्माना की राशि भी वसूली जा रही है। यातायात थानाध्यक्ष प्रजेश दूबे की माने तो यातायात थाना खुलने के बाद सैकड़ों वाहनों से करीब 1 लाख 67 हजार रूपये जुर्माना की राशि वसूल की गयी है। जुर्माना की राशि एटीएम, यूपीआई से ऑनलाइन ही ली जाती है। फिलहाल यातायात थाना में एसआई ज्योतिष कुमार सहित 5 सिपाहियों की नियुक्ति की गयी है। थानाध्यक्ष के अनुसार बुधौली, दल्लु चौक जैसे मुख्य चौक-चौराहे पर यातायात पुलिस की नियुक्ति की जाएगी। जिस शहर में जाम से निजात मिलेगी।

विकास में रोड़ा: तेजतर्रार डीएम सावन कुमार का कैमूर तबादला


– 8 अप्रैल को जिले के कर्मठ व तेजतर्रार डीएम सावन कुमार का तबादला शेखपुरा से कैमूर हो गया और नए जिला पदाधिकारी के रूप में जे.प्रियदर्शनी ने शेखपुरा की बागडोर संभाली। गौरतलब हो कि शेखपुरा में डीएम सावन कुमार के आने के बाद जिला विकास की प्रगति की राह पर थी। वही भ्रष्टाचार में सम्मिलित अधिकारियों की जान हलक में थी। सावन कुमार कुमार लगातार क्षेत्र भ्रमण कर ग्रामीणों की समस्या के लगातार निपटारा कर रहे थे। इसके साथ ही प्रत्येक सप्ताह अपने कार्यालय में सभागार का आयोजन कर लगातार भूमि विवाद एवं अन्य समस्याओं का निपटारा किया जा रहा था। जिसके कारण जिले भर के जनता में सावन कुमार के प्रति काफी भरोसा जगा था। डीएम सावन कुमार के कार्यकाल में लापरवाही बरतने वाले कई अधिकारियों और कर्मियों को सस्पेंड किया गया था। वही 11 महीने के कार्यकाल में गिरहिंडा पहाड़ पर सड़क का चौड़ीकरण, नल जल योजना में प्रगति, जल जीवन हरियाली योजना, गिरहिंडा पहाड़ पर महोत्सव का आयोजन सबसे बड़ी उपलब्धि रही है।

राहत: टाल के घाटकुसुम्भा प्रखंड में बाउघाट थाना का स्थापना

– 13 जुलाई को घाटकुसुम्भा प्रखंड मुख्यालय में नए बाउघाट थाना का स्थापना किया गया। बता दें कि बाउघाट को थाना बनाने की अनुशंसा 2019 में ही हो चुकी थी, जो अब जिले का 12 वां थाना के रूप में अस्तित्व में आया है। सुदूरवर्ती पानापुर पंचायत समेत 8 गांव को इसका कार्यक्षेत्र बनाया गया है। जिससे टाल में हो रही अनैतिक गतिविधियों पर लगाम लगाई जा सकें। जिसमें प्रथम थानाध्यक्ष के रूप में संजीता कुमारी को प्रतिनियुक्त किया गया है। बाउघाट थाना क्षेत्र अंतर्गत आलापुर, जितवारपुर, हरनामचक, प्राणपुर महमदपुर, पानापुर, कोयला व घाटकुसुम्भा को शामिल किया गया है। अब जिले में 12 थाना व ओपी सहित कुल थानों की संख्या 21 हो गई है।

आरोप: बीपीआरओ ने डीडीसी पर 2 प्रतिशत कमीशन लेने का आरोप लगाकर मचाई थी सनसनी

– बीते 2 जून को जिले के प्रभारी जिलाधिकारी सह डीडीसी अरुण कुमार झा पर भ्रष्टाचार में लिप्त होने का आरोप लगाकर प्रखंड पंचायती राज पदाधिकारी तनुजा पाठक ने पूरे जिले में सनसनी मचा दी। सदर प्रखंड में पदस्थापित बीपीआरओ तनुजा पाठक ने पंचायती राज विभाग को पत्र लिखकर जांच की मांग की थी। यह खबर काफी दिनों तक सुर्खियों में रही। तनुजा पाठक ने अपने पत्र में आरोप लगाया था कि डीडीसी सह प्रभारी जिलाधिकारी अरुण कुमार झा लगातार फोन कर कहते है कि ग्राम पंचायत च पंचायत समिति से उन्हें 02 प्रतिशत कमीशन नहीं दिया गया, तो वह मनरेगा के सहायक अभियंता से पंचायती राज विभाग की योजनाओं की जांच करायेंगे व विधिक कार्रवाई करेंगे। इस शिकायत के बाद जिला प्रशासन की काफी किरकिरी हुई थी। वही जांच अभी तक फ़ाइलो में दबकर रह गयी

भ्रष्टाचार: सब रजिस्ट्रार पर अधिवक्ता ने लगाया था भ्रष्टाचार का आरोप

– शेखपुरा जिला सब रजिस्ट्रार स्वीटी सुमन पर वरिष्ठ अधिवक्ता सुरेन्द्र प्रसाद यादव ने 9 सितम्बर को भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए है। जहां उन्होंने सब रजिस्ट्रार कार्यालय में नाजायज वसूली को लेकर सब रजिस्ट्रार स्वीटी सुमन के विरुद्ध निगरानी अन्वेषण ब्यूरो बिहार, पटना को चिठ्ठी लिखा था। इसके साथ विभाग के अपर मुख्य सचिव विनोद सिंह गुंजियाल को चिट्ठी लिखकर जांच की मांग की थी। बीते 10 अक्टूबर को मुंगेर प्रमंडल के सहायक निबंधन महानिरीक्षक डॉ. संजय कुमार एवं डॉ.चंद्र प्रकाश ने शेखपुरा सब रजिस्ट्रार कार्यालय का जांच करने पहुंचे। जहां उन्होंने जांच कर अपनी रिपोर्ट अपर मुख्य सचिव को भेज दी। जांच के बाद सब रजिस्ट्रार पर विभागीय कार्यवाही की तलवार लटकी हुई है।

बड़ी लूट: सोना ऋण बैंक से दिनदहाड़े दो करोड़ सोना की लूट

– बीते 18 दिसंबर को बरबीघा मुख्य बाजार स्थित आशीर्वाद गोल्ड लोन माइक्रो फाइनेंस कंपनी में कर्मियों को बंधक बनाकर हथियारबंद अपराधियों ने 2 करोड़ के सोना एवं 2 लाख रूपये के लूट कर पूरे जिले में सनसनी मचा दी। हालांकि पुलिस ने घटना के 72 घंटे के अंदर उदभेदन करते हुए लूट कांड के मास्टर माइंड व फाइनेंस कंपनी के बरबीघा ब्रांच मैनेजर सहित लूट कांड में शामिल असिस्टेंट मैनेजर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। साथ ही फाइनेंस कंपनी से लूटा हुआ सोना भी बरामद कर लिया। गौरतलब हो कि बरबीघा शहर में 18 दिसंबर को हथियार बंद अपराधीयों ने आशीर्वाद गोल्ड लोन फाइनेंस कंपनी में 2 करोड़ का सोना व 2 लाख रूपये नगदी दिन दहाड़े लूट लिया। जिसके 3 दिन बाद पुलिस ने इस कांड का खुलासा करते हुए लूट कांड में शामिल पटना जिला निवासी जितेंद्र प्रसाद के पुत्र व बैंक मैनेजर कृष्ण मुरारी एवं पटना जिला निवासी रामसरेक राय के पुत्र व सहायक ब्रांच मैनेजर विकास कुमार को गिरफ्तार कर लिया। साथ ही पुलिस ने लुटा गया 5 किलो 830 ग्राम सोना और लूट में इस्तेमाल बाइक व मोबाइल को भी बरामद कर लिया।

 

Watch More…https://youtu.be/grvKQL8NGu4

3 thoughts on “ईयर बुक शेखपुरा- 2023”

Leave a Comment