शेखपुरा: एमडीए अभियान की सफलता को लेकर पुलिस केंद्र में चलाया गया जागरूकता अभियान  

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं


जिले में फाइलेरिया उन्मूलन के लिए अगले माह 10 फरवरी से शुरू होने एमडीए/आईडीए (सर्वजन दवा सेवन कार्यक्रम) अभियान की सफलता को लेकर पुलिस केंद्र शेखपुरा में सोमवार को जागरूकता अभियान चलाया गया। अभियान की सफलता को पुलिस अधिकारी एवं जवानों से विस्तृत चर्चा की गई एवं अपेक्षित सहयोग की अपील की गई। साथ ही इससे बचाव के बारे में भी जागरूक किया। इस मौके पर वेक्टर रोग नियंत्रण पदाधिकारी श्याम सुंदर कुमार ने कहा कि इस बार जिले भर में 10 फरवरी से एमडीए/आईडीए अभियान की शुरुआत होगी। अभियान शुरुआत के पहले तीन दिनों तक जिले के सभी स्कूलों में जाकर स्वास्थ्य टीम द्वारा बच्चों को फाइलेरिया से बचाव के लिए दवा खिलाई जाएगी। इसके बाद यानी चौथे दिन घर-घर जाकर आमजनों को दवाई खिलाई जाएगी। इस दौरान इस बात का ख्याल रखा जाएगा कि एक भी योग्य व्यक्ति दवाई का सेवन से छूटे नहीं। उन्होंने कहा, अभियान के दौरान घर-घर जाकर लोगों को एल्बेंडाजोल, आईवरमेक्टिन और डीईसी की दवाएं पात्र व्यक्तियों को खिलाई जाएगी। उक्त दवा गर्भवती महिलाओं, जिन्हें एक सप्ताह पूर्व प्रसव हुआ है एवं गंभीर बीमारी से पीड़ित व्यक्ति के अलावा दो वर्ष से कम आयु वर्ग के बच्चों को छोड़कर शेष सभी लोगों को स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा खिलाई जाएगी। साथ ही इस बीमारी से बचाव के लिए आवश्यक जानकारी देते हुए जागरूक किया जाएगा। ताकि उक्त अभियान का सफलतापूर्वक समापन एवं बीमारी पर रोकथाम संभव हो सके। वहीं, उन्होंने बताया, इस बीमारी से बचाव के लिए दवाई के साथ-साथ एहतियात भी जरूरी है। इसलिए, अभियान के दौरान योग्य व्यक्तियों को दवाई तो खिलाई ही जाएगी। इसके अलावा इस बीमारी से बचाव के लिए लोगों को आवश्यक जानकारी भी दी जाएगी। जैसे कि, घर के आस-पास गंदगी जमा नहीं होने दें एवं घरों में सोने से पहले मच्छरदानी का उपयोग करें। साथ ही अन्य लोगों को दवा सेवन के प्रति जागरूक भी करें, ताकि फाइलेरिया जैसी बीमारी जड़ से समाप्त हो सके। इस बीमारी को पूरी तरह से मिटाने के लिए जागरुकता भी बेहद जरूरी है।

फाइलेरिया क्या है ?

– फाइलेरिया मच्छर के काटने से होने वाला एक संक्रामक रोग है।
– किसी भी उम्र के व्यक्ति फाइलेरिया से संक्रमित हो सकता है।
– फाइलेरिया के लक्षण हाथ और पैर में सूजन (हाथीपांव) व हाइड्रोसील (अण्डकोष में सूजन) है।
– किसी भी व्यक्ति को संक्रमण के पश्चात बीमारी होने में 05 से 15 वर्ष लग सकते हैं।

 इन बातों का रखें ख्याल :

– भूखे पेट दवा नहीं खिलाना है।
– किसी के बदले किसी अन्य को दवा ना दें और स्वास्थ्य कर्मी के सामने दवा खाएं।
– गर्भवती महिलाओं को दवा नहीं खिलाना है।
– 02 वर्ष छोटे बच्चे को दवा नहीं खिलाना है।
– गंभीर रूप से बीमार व्यक्ति को भी दवा नहीं खिलाना है।

– फाइलेरिया से बचाव के उपाय :

– सोने के समय मच्छरदानी का निश्चित रूप से प्रयोग करें।
– घर के आसपास गंदा पानी जमा नहीं होने दें।
– एल्बेंडाजोल व डीईसी दवा का निश्चित रूप से सेवन करें।
– साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखें।

JOB ALART…https://mahuaanewsbihar.com/job-camp-will-be-organized-in-shekhpura-shri-krishna-iti-you-will-get-job-on-the-spot/

Leave a Comment