इस वजह से शेखोपुरसराय पंचायत के मुखिया की हो गई मौत 

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

आजकल हार्ट अटैक की घटनाएं तेजी से बढ़ रही हैं। यह एक गंभीर समस्या बनती जा रही है क्योंकि अब हार्ट अटैक केवल बुजुर्गों तक ही सीमित नहीं रह गया है, बल्कि युवा लोग भी इसकी चपेट में आने लगे हैं। ऐसे में यह बेहद जरूरी हो गया है कि हम हार्ट अटैक के कारणों और लक्षणों के बारे में जागरूक हों। बहरहाल, शुक्रवार को हार्ट अटैक आने से शेखोपुरसराय के मुखिया 68 वर्षीय रघुनाथ मांझी की मौत हो गई। उनके एकाएक निधन से परिवार में कोहराम मच गया है। जबकि गांव में मातम पसर गया है। परिजनों के अनुसार सीने में दर्द होने की शिकायत के बाद उन्हें परिवार वाले बरबीघा के निजी क्लीनिक ले गए थे, जहां डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। बता दें कि मुखिया रघुनाथ मांझी जमुई स्थित म्यूजियम में कर्मचारी के पद पर कार्यरत थे। म्यूजियम की नौकरी से सेवानिवृत्त होने के बाद 2021 के पंचायत चुनाव में उन्होंने पहली बार अपना भाग्य मुखिया पद पर खड़ा होकर आजमाया। इसमें उन्हें जीत हाथ लगी। उनके निधन पर शोक संवेदना प्रकट करने वालों का तांता लगा है। 

हार्ट अटैक आने के बाद क्या करें कि व्यक्ति की जान बच जाए
अगर आपके आस-पास कोई व्यक्ति अचानक बेहोश हो जाता है तो सबसे पहले तुरंत उस व्यक्ति की नब्ज (पल्स) की जांच करें। अगर नब्ज बिल्कुल नहीं महसूस हो रही है तो समझ लें कि व्यक्ति को हार्ट अटैक पड़ा है। क्योंकि हार्ट अटैक में दिल की धड़कन रुक जाती है, इसलिए नब्ज नहीं मिल पाती। ऐसे दो से तीन मिनट के अंदर उसके हार्ट को रिवाइज करना जरूरी होता है, नहीं तो ऑक्सीजन के कमी के चलते उसका ब्रेन डैमेज हो सकता है। ऐसे में हार्ट अटैक आने पर तुरंत सीने पर जोर-जोर से मुक्का मारे। तब तक मारे जब तक वह होश में नहीं आ जाता है।  इससे उसका दिल फिर से काम करना शुरू कर देगा और उसे तुरंत इमरजेंसी मेडिकल सेवाओं से संपर्क करें और बेहोश व्यक्ति को सीपीआर दें। जल्दबाजी में उसे नजदीकी अस्पताल ले जाएं, क्योंकि हार्ट अटैक पर समय रहते इलाज नहीं किया गया तो व्यक्ति की मौत हो सकती है। 

Leave a Comment