बिहार में 65 प्रतिशत आरक्षण के सवाल पर युवा राजद का प्रदर्शन

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

गुरुवार को हाईकोर्ट ने बिहार में 65 प्रतिशत आरक्षण को रद्द कर दिया, जिसको लेकर शुक्रवार को शेखपुरा में युवा राजद के कार्यकर्ताओं ने राजद युवा जिलाध्यक्ष विनय यादव के नेतृत्व में सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने जिला समाहरणालय के समक्ष प्रदर्शन किया है। इस बाबत युवा राजद के जिलाध्यक्ष विनय यादव ने बताया कि जब तेजस्वी यादव सरकार में थे तो जातीय जनगणना करवाकर पिछड़े, शोषित, वंचित लोगों के हक में उन्होंने आरक्षण के दायरे को बढ़ाकर 50 से 65 प्रतिशत किया था, ताकि लोगों को उनकी हिस्सेदारी मिल सकें। जिसे हाईकोर्ट ने रद्द कर दिया है। उन्होंने कहा है कि हमलोगों को पहले से शक था कि भाजपा के लोग आरक्षण विरोधी हैं। हम सरकार में थे तो जाति आधारित गणना कराई, आरक्षण बढ़ाया। हमने भारत सरकार से आग्रह किया कि इसे 9वीं अनुसूची में डाल दिया जाए ताकि सुरक्षित रहे। छह महीने पूरे हुए लेकिन केंद्र सरकार ने इसे नहीं डाला। पता नहीं क्यों सीएम नीतीश चुप हैं। विनय यादव ने कहा कि हमलोगों ने इसके लिए लड़ाई लड़ी और संघर्ष किया। हमारी सरकार ने आरक्षण बढ़वाया और अब बीजेपी के आते ही किस तरीके से आरक्षण को समाप्त करने की कोशिश की जा रही है। हमलोग सीएम नीतीश कुमार से अनुरोध करते हैं कि कई बार आपने पीएम नरेंद्र मोदी के पैर पकड़े हैं। इस बार भी पैर पकड़कर नौवीं अनुसूची में डलवाने का काम करें। अगर नहीं हो तो सर्वदलीय लोग पीएम मोदी से मिलकर उनसे अपील करेंगे। जिसकी जितनी आबादी है, उसे उतना हक और सम्मान मिलना चाहिए। इस मामले पर जेडीयू और सीएम नीतीश कुमार चुप हैं। हालांकि, इस लड़ाई को हमलोगों ने लड़ा है और आगे भी लड़ेंगे। इस दौरान राजेन्द्र यादव, सनोज कुमार, अजय यादव, भूषण यादव, रंधीर कुमार, गांधी महतो, सतीश ठाकुर के साथ सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद थे।

Leave a Comment